February 24, 2020

Arth (1982) : Koi Ye Kaise Bataye | कोई ये कैसे बताये | Jagjit Singh

गुलज़ार साहब ने लिखा है कि ‘रिश्ते बस रिश्ते होते हैं,…  कुछ इक पल के कुछ दो पल के .. कुछ परों से हल्के होते हैं,…  बरसों …

Read More

Arth (1982) : Tum Itna Jo Muskura Rahe Ho | तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो | Jagjit Singh

For thousands of sensitive souls all over the world, Jagjit Singh stands for catharsis. There is no other voice, which can sing out the notes …

Read More