February 20, 2020

Arth (1982) : Koi Ye Kaise Bataye | कोई ये कैसे बताये | Jagjit Singh

गुलज़ार साहब ने लिखा है कि ‘रिश्ते बस रिश्ते होते हैं,…  कुछ इक पल के कुछ दो पल के .. कुछ परों से हल्के होते हैं,…  बरसों …

Read More